गुरुवार, 10 जून 2010

मस्ती

मस्ती से देखो और सीखो भी
दोस्तो, टीवी देखना तुम्हें खूब भाता है। टीवी पर आ रही कोई ‘भूतनाथ अंकल’ जैसी मूवी हो या फिर कोई स्टंट से भरपूर तुम्हारे किसी पसंदीदा कलाकार का प्रोग्राम, तुम कोई भी मौका नहीं जाने देते। कॉमेडी प्रोग्राम या फिर स्टेज पर टेलेंट दिखाने वाले कार्यक्रमों के अलावा भी ऐसे बहुत से कार्यक्रम टीवी पर आ रहे हैं, जो तुम्हारे लिए मनोरंजक होने के साथ-साथ ज्ञानवर्धक भी हैं। जानते हैं ऐसे कुछ कार्यक्रम, जिन्हें देखकर तुम क्रिएटिव बनने के साथ एन्जॉय भी करोगे।

आजकल तुम्हारी गर्मियों की छुट्टियां भी चल रही हैं। ऐसे में तुम्हारे पास पहले के मुकाबले समय कुछ अधिक भी है। क्यों न इन छुट्टियों में कुछ ऐसे टीवी प्रोग्राम्स की तलाश की जाए, जो हमें खेल-खेल में क्रिएटिव बनने के लिए भी प्रेरित करें। टीवी पर जब कुछ सीखने-समझने वाले कार्यक्रम देख रहे होंगे तो यकीन मानो तुम्हारे पेरेंट्स भी तुम्हें टीवी देखने से मना करने की बजाए खुद भी तुम्हारे साथ बच्चे बन जाएंगे।
एम ए डी - मैड
‘मैड’ तुम्हारे लिए बहुत अच्छा और मजेदार शो है। इसमें तुम ‘आर्ट एंड क्राफ्ट’ की बहुत सी चीजें सीख सकते हो, जो तुम्हें स्कूल में भी बहुत काम आएंगी। पोगो चैनल पर आने वाला यह मजेदार शो मैड बच्चों की पसंद की कतार में सबसे आगे है। विभिन्न तरह से की गई पेंटिंग्स बच्चों के लिए खास आकर्षण का केंद्र रहती हैं। कैनवस पर ब्रश चलाने के शौकीन बच्चे बहुत कुछ सीखते हैं। कुछ ऐसे टिप्स भी बातों-बातों में मिलते हैं, जिसका इस्तेमाल वे खुद पेंटिंग बनाते हुए करते हैं और स्कूल व घर में सबकी तारीफ पाते हैं। दोस्तो, तुम्हारे लिए इस प्रोग्राम के होस्ट हैं रॉब। पोगो चैनल पर आने वाला यह प्रोग्राम तुम्हारे लिए हर मंगलवार से शुक्रवार तक अलग-अलग समय पर दिखाया जाता है, ताकि जब तुम स्कूल में रहो तो तुम्हारा पसंदीदा कार्यक्रम छूट न जाए।
आर्ट-अटैक
आर्ट अटैक डिज्नी का एक बहुत मशहूर शो है। इसे अवॉर्ड भी मिल चुका है। इसने लाखों लोगों को कला के आनंद का अनुभव कराया है। इस प्रोग्राम की खास बात यह है कि हर दर्शक में यह विश्वास भी जगाता है कि हां वह भी यह आर्ट कर सकता है। रोजमर्रा के कार्यों में प्रयोग होने वाले सामानों से वह कलात्मक चीजें बनाई जाती हैं। इस प्रोग्राम के जरिए बच्चों के अंदर छिपे कलाकार को बाहर लाया जाता है। इस शो के होस्ट के पास पेंट और रंगीन पेंसिलें होती हैं। वह बच्चों को कलात्मक चीजें बनाने के लिए नए-नए आइडिया देते हैं और उन्हें प्रोत्साहित करते हैं। डिज्नी का यह आर्ट अटैक काफी लोकप्रिय हो रहा है। इसे देख कर तुम भी अच्छी और कलात्मक चीजें बना सकते हो। आर्ट अटैक को तुम देख सकते हो पूरे सप्ताह, लेकिन किसी दिन वह शाम 3:30 बजे प्रसारित होता है तो किसी दिन शाम 4:00 बजे। अगर तुम्हें गेम्स का शौक है तो ‘होल इन द वॉल’ और फन-फिल्ड टेलीमैच जैसे प्रोग्राम्स भी देख सकते हो, जो मजेदार भी हैं और तुम्हें बहुत कुछ सिखा भी देते हैं।
एफ ए क्यू
दोस्तो, क्या तुमने सोचा है कि पक्षी तो हवा में उड़ पाते हैं, लेकिन व्हेल नहीं। पोगो पर एफ ए क्यू विज्ञान के ऐसे रहस्यों से रूबरू करवाता है, जिनका जवाब कई बड़े भी नहीं दे पाते। तुम्हें सारे जवाब ऐसे मिलते जाएंगे जैसे कोई गेम खेला जा रहा हो। यह एक तरह से तुम्हारी पढ़ाई जैसा ही है, मगर न तो यहां कोई क्लासरूम है, न ही कॉपी किताबें और न होमवर्क और एग्जाम। ऐसी पढ़ाई भला कौन नहीं करना चाहेगा। जो सवाल तुम पूछोगे ‘एफ ए क्यू’ (फ्रीक्वेंटली आस्क्ड क्वेश्चंस) तुम्हें जवाब देगा। हर चीज का कोई न कोई वैज्ञानिक आधार है। इस शो में तुम जो भी प्रश्न पूछोगे, उसके विषय में वैज्ञानिक जानकारी मिलेगी। विभिन्न प्रकार की जो घटनाएं होती हैं, उनके रहस्यों की जानकारी मिलेगी। ऐसे-ऐसे प्रयोग देखने को मिलेंगे कि मजा आ जाएगा। प्रतीक और उसके सहायक रोबोट ‘क्रैश’ के मजेदार कारनामे देखने को मिलते हैं। बच्चों के सवाल के जवाब मनोरंजक अंदाज में दिए जाते हैं। अगर तुम भी ऐसे ही कुछ अनसुलङो रहस्यों से परदा उठते हुए देखना चाहते हो तो सोमवार से रविवार तक पोगो चैनल पर अलग-अलग समय पर इस कार्यक्रम को देख सकते हो।

डोरा द एक्सप्लोरर

इसके अलावा ‘डोरा द एक्सप्लोरर’ जैसे कुछ कार्टून्स भी हैं, जो सांस्कृतिक विविधता पर आधारित हैं और मजे-मजे में तुम्हें स्पेनिश के कुछ शब्द भी सिखा देते हैं। यहां 7 साल की डोरा की दुनिया को जानने का मौका मिलता है। वह बच्चों को सिखाती है कि किसी भी स्थिति को कैसे भांपना है, मुश्किलों का कैसे सामना करना है। वह बच्चों के साथ बहुत से खेल भी खेलती है। खेल-खेल में ही वह कब बहुत सी महत्त्वपूर्ण जानकारी सिखा देती है, बच्चों को खुद पता नहीं चलता। बच्चे जहां नए-नए शब्दों की दुनिया को जानते-पहचानते हैं, वहीं मैथ्स में भी मजबूत बनते हैं। डोरा सिर्फ क्लास में नहीं, बल्कि खुली जगह में शारीरिक गतिविधियों के जरिए बच्चों को बहुत कुछ सिखा जाती है। डोरा से तुम्हारी मुलाकात जहां सोमवार, मंगलवार व बुधवार को सुबह 11 बजे हो सकती है, वहीं सप्ताह के अन्य दिनों में अलग-अलग समय में तुम्हारी यह टीचर तुम से मिलती है।

निंजा हथोड़ी

निंजा हथोड़ी कॉमेडी से भरपूर एनिमेटिड सीरीज है। निंजा हथोड़ी तुम्हें तुम्हारा दोस्त बनकर तुम्हें बहुत कुछ सिखाते हैं। वे बताते हैं कि कैसे तुम्हें बड़ों से बात करनी चाहिए। कड़ी मेहनत करने से क्या-क्या फायदे हो सकते हैं। अनुशासन में रहना हमारे लिए क्यों जरूरी है। डरो मत ये तुम्हें बोर नहीं करेंगे, बल्कि विभिन्न एपिसोड के जरिए अंत में तुम्हारे लिए एक महत्त्वपूण संदेश छोड़ जाएंगे, जो तुम्हारे बहुत काम का होगा।
निंजा हथोड़ी का दोस्त बनकर उनसे सीखने के लिए तुम्हें निक चैनल पर दोपहर 12 बजे, 2 बजे व शाम 7 व 8 बजे साथ रहना होगा।

1 टिप्पणी: